राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) भारत सरकार द्वारा सीपीसीआर अधिनियम,2007 के अंतर्गत गठित एक संवैधानिक निकाय है।

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) भारत सरकार द्वारा सीपीसीआर अधिनियम,2007 के अंतर्गत गठित एक संवैधानिक निकाय है।
 
राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) भारत सरकार द्वारा सीपीसीआर अधिनियम,2007 के अंतर्गत गठित एक संवैधानिक निकाय है।

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) भारत सरकार द्वारा सीपीसीआर अधिनियम,2007 के अंतर्गत गठित एक संवैधानिक निकाय है। आयोग द्वारा ऑकाक्षी ब्लॉक जीरापुर में आजीविका भवन जनपद पंचायत कार्यालय में ब्लॉक स्तरीय पीठ / शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष श्री प्रियंक कानूनगों तथा राज्य बाल संरक्षण आयोग के सदस्य श्री ओमकार सिंह एवं डॉ निवेदिता शर्मा द्वारा विषम परिस्थितियों में निवास करने वाले बालकों की शिकायतों (बाल स्वास्थ्य,विघालय शिक्षा,बाल मजदूरी,बाल विवाह,योन उत्पीड़न,बाल हिन्सा,आधार भूत संरचना जैसे विघालयों,आंगनवाड़ी,अस्पताल,बाल गृह,छात्रावासों में कमियॉ) व समस्याओं को बैंच द्वारा सुना गया। जिसमें जिले से संबंधित विभागों के अधिकारियों द्वारा शिकायतों का निराकरण किया गया। बैंच आयोजन स्थल पर कैम्प भी आयोजित किये गए। जिनमें आर.बी.एस.के. दल द्वारा स्वास्थ्य जांच शिविरदिव्यांगता प्रमाण-पत्रदिव्यांगता पेंशन और दिव्यांग संबंधी सुविधा तथा उपकरण,    आयुष्मान भारत कार्ड आधार कार्ड शिविरबैंक खाता खुलने के लिए शिविरराज्य और विभागों जैसे आईसीडीएस,आईसीपीएस,ट्राईबल और अन्य की योजनाओं का प्रदर्शन आदि।

सहायक नोडल अधिकारी जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास द्वार बताया गया कि आयोजित बैंच के समक्ष कुल 408 शिकायतें प्रस्तुत की गई, जिनका निराकरण करने हेतु आयोग द्वारा संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया गया। बैंच स्थल पर बाल सगाई के 2 प्रकरणों में एफआईआर दर्ज की गई। 4 हितग्राहियों के खाते बैंक में खोले गए,17 आधार कार्ड कार्यक्रम स्थल पर ही बनाए गए,49 दिव्यांग बच्चों के दिव्यांग प्रमाण पत्र बनाए गए,50 बालकों के आयुष्मान कार्ड बनाए गए। बैंच स्थल पर दिव्यांग उपकरण प्रदान किए गए। दानदाता श्री अंशुल तिवारी द्वारा जरूरतमंद 8 बालकों को निजि स्पान्सरशिप अन्तर्गत छः माह हेतु धन राशि 1 लाख रूपये प्रदान करने की सहमति व्यक्त की।

From Around the web