शासकीय कन्या महाविद्यालय बड़वानी में मिट्टी के गणेशजी की प्रतिमा बनाने का प्रशिक्षण

शासकीय कन्या महाविद्यालय बड़वानी में मिट्टी के गणेशजी की प्रतिमा बनाने का प्रशिक्षण
 
शासकीय कन्या महाविद्यालय बड़वानी में मिट्टी के गणेशजी की प्रतिमा बनाने का प्रशिक्षण

15 सितम्बर को महाविद्यालय में स्वामी विवेकानंद कॅरियर मार्गदर्शन प्रकोष्ठ एवं ईको क्लब एवं राष्ट्रीय सेवा योजना ईकाई के संयुक्त तत्वावधान में प्राचार्य डॉ. वंदना भारती तथा महाविद्यालयीन प्फ।ब् के मार्गदर्शन में पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देने हेतु महाविद्यालय की एम.एससी. गृहविज्ञान की छात्राएँ कुमारी प्रगति पाटीदार, कुमारी नम्रता गेहलोत, कुमारी नंदिता काग, कुमारी हिमांशी पाटीदार एवं कुमारी शिवानी काग द्वारा छात्राओं को मिट्टी के गणेशजी की प्रतिमा बनाने का प्रशिक्षण दिया। प्रशिक्षण के दौरान ईको क्लब प्रभारी डॉ. कविता भदौरिया द्वारा अपने उद्बोधन में कहा कि पर्यावरण की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी है, क्योंकि मिट्टी से बने गणेशजी हमारे जल प्रदूषण को रोकेगें तथा जलीय जीव जंतुओं की इससे रक्षा होगी। केमिकल युक्त प्रतिमा के विसर्जन पर जल प्रदूषण बढ़ जाता है, अतः पर्यावरण का संरक्षण करके ही विकास किया जा सकता है और यह प्रशिक्षण इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि छात्राएँ प्रतिमा बनाना सीखकर एवं विक्रय कर आत्मनिर्भरता की ओर आगे बढ़ सकती है। इस तरह पर्यावरण संरक्षण की दिशा में यह एक सराहनीय प्रयास है। राष्ट्रीय सेवा योजना ईकाई प्रभारी डॉ. सुनीता भायल ने बताया कि ईको फ्रेण्डली गणेश जी को खूबसूरत बनाने के लिये कच्चे और प्राकृतिक रंगो का इस्तेमाल किया जाता है। इसलिये जल प्रदूषण होने और किसी अन्य प्रकार की बीमारी फैलने का खतरा कम हो जाता है। सह संयोजक प्रो. सीमा नाईक ने व्यवसायिक रूप से गणेश जी के निर्माण में प्रयुक्त सामग्री प्लास्टर ऑफ पेरिस व हानिकारक रंगो का विसर्जन के समय जलसंसाधन पर पड़ने वाले दुष्प्रभावों का वर्णन किया। इस कार्यक्रम में महाविद्यालय के वरिष्ठ प्राध्यापक डॉ. स्नेहलता मुझाल्दा, डॉ. प्रियंका देवड़ा, एवं छात्राएँ उपस्थित रही।

From Around the web